नई दिल्ली. मानव संसाधन और विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में बोलते हुए कांग्रेस पर जमकर हमला बोला. स्मृति ने कहा कि उनको अमेठी का लोकसभा चुनाव लड़ने की सज़ा दी जा रही है. स्मृति ने कहा कि मैने वहां चुनाव लड़ा इसलिए कांग्रेस मुझसे बदला ले रही है.

विपक्ष की तरफ से लगाए गए आरोपों के बाद स्मृति ने हैदराबाद युनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या के मामले में जवाब देते हुए कहा कि कई सांसदों ने मुझे पत्र लिखा और मैने किसी भी सांसद का भेदभाव किए बिना सभी पत्रों का जवाब दिया. लेकिन विपक्ष ने मेरे पत्र लिखने पर सवाल उठाए.

स्मृति ने आगे कहा कि कांग्रेस में सच सुनने की आदत नहीं है. उन्होंने कहा कि रोहित वेमुला को निकालने वाली कमेटी यूपीए ने बनाई थी. स्मृति ने कहा कि एक मां पर ही खून का इलजाम लगाया गया. इस दौरान स्मृति ईरानी भावुक भी हो गई.

स्मृति ईरानी ने कहा, मंत्री के रूप में 20 महीने के अपने कार्यकाल में मैंने बिना किसी भेदभाव के देश की और लोगों की सेवा की है. उन्होंने कहा कि मुझ पर आरोप लगाया गया है कि मैं किस हैसियत से विश्वविद्यालयों को चिट्ठी लिखती हूं.

ईरानी ने कहा, एक छात्र की मौत हो गई और इसके ऊपर राजनीतिक लड़ाई लड़ी जा रही है. क्या देश यह जानता है कि कार्यकारी परिषद जिसने (रोहित पर) फैसला लिया था, उसके एक भी सदस्य की नियुक्ति एनडीए ने नहीं की थी. सभी नियुक्तियां यूपीए द्वारा की गई थी.

मुझे जैसे ही इस घटना के बारे में पता चला, मैंने केसीआर जी (तेलंगाना के मुख्यमंत्री) को फोन किया. सिर्फ इसलिए कि कानून-व्यवस्था की स्थिति पर वह मदद करें. मुझे बताया गया कि साहब अभी व्यस्त हैं और फिलहाल बात नहीं कर सकते हैं.