नई दिल्ली. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अभिभाषण के साथ संसद के बजट सत्र का आगाज हो गया है. उन्होनें अपने अभिभाषण में कहा कि सरकार का मकसद गरीब से गरीब तक बुनियादी सुविधाएं पहुंचाना है. सरकार की जनधन योजना की तारीफ करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इस योजना ने बेहतर काम किया है. उन्होनें कहा, ‘मेरी सरकार का मकसद सबका साथ सबका विकास करना है और सरकार इस दिशा में आगे भी बढ़ रही है’. 
 
किसानों का विकास जरूरी
 
उन्होनें कहा कि सरकार गरीबों और किसानों की उन्नति की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रही है. सरकार ने पिछले साल 5 मेगा फूड प्रोसेसिंग पार्क का निर्माण किया है. किसानों के विकास के लिए फसल बिमा योजना और प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना शुरू की है. फसल बिमा योजना का लक्ष्य कम प्रीमियम पर किसानों को ज्यादा मुआवजा देना है. किसानों को बेहतर फसल बिमा की सौगात दी गई है. सरकार का मकसद किसानों की समृद्धि के साथ साथ युवाओं के बेहतर भविष्य का निर्माण करना है.
 
2022 तक होगा सबका अपना घर
 
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सरकार के कामों की तारीफ करते हुए कहा कि सरकार 2022 तक सभी लोगों को घर उपलब्ध कराने का वादा किया है, जिसके लिए सरकार वचनबद्ध है. सरकार की अपील पर 62 लाख लोगों ले गैस सब्सिडी छोड़ी है.
 
युवा है देश का भविष्य
 
सरकार द्वारा शुरू की गई योजनाओं पर बात करते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि युवा देश का भविष्य है, जिनको रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना सरकार का सबसे कठिन लक्ष्य है. स्किल डेवलपमेंट इस दिशा में उठाया गया महत्वपूर्ण कदम है. मेक इन इंडिया और मुद्रा योजना से देश में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. मेक इन इंडिया से एफडीआई  में 39 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है. 
 
राष्ट्रपति ने डिजिटल इंडिया स्कीम की तारीफ करते हुए कहा कि इस स्कीम से गांवों को भी तकनीक से जोड़ा जाएगा. 
 
गांवों तक बिजली पहुंचाना अहम लक्ष्य
 
राष्ट्रपति ने बताया कि सरकार का लक्ष्य 2018 तक गांवों में बिजली पहुंचाने का है. इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार ने 6 करोड़ एलईडी बल्ब बांटे हैं. बिजली की कमी भी 4 से घटकर 3.2 फीसदी हो गई है. 
 
आतंकवाद है ग्लोबल समस्या
 
राष्ट्रपति ने आतंकवाद को ग्लोबल समस्या बताया. पठानकोट हमले का जिक्र करते हुए उन्होनें कहा, ‘आतंकवाद से निपटने के लिए सभी का एक होना जरूरी है, मैं देश के सुरक्षाबलों को शुभकामनाएं देता हूं, जिन्होनें हमले का मुहंतोड़ जवाब दिया’.
 
बता दें कि संसद का बजट सत्र 25 फरवरी से शुरू हो रहा है. 25 फरवरी से 16 मार्च तक संसद सत्र का पहला चरण रहेगा. बजट सत्र का दूसरा चरण 25 अप्रैल से 13 मई तक रहेगा.