दिल्ली. संसद का बजट सत्र मंगलवार से शुरू हो रहा है. यह सेशन दो पार्ट में होगा. पहला चरण 23 फरवरी से 16 मार्च तक चलेगा, वहीं दूसरा चरण 25 अप्रैल से 13 मई तक चलेगा. इस सत्र में जहां सरकार अहम बिलों को पास कराने की कोशिश करेगी, वहीं यह आसार है कि विपक्ष जेएनयू विवाद, रोहित वेमुला आत्महत्या और जाट आरक्षण मुद्दों में सरकार को घेरेगा.
 
बजट सत्र के एक दिन पहले सोमवार को स्पीकर सुमित्रा महाजन द्वारा सर्वदलीय बैठक बुलाई गई, जिसमें बजट सत्र को सुचारू रूप से चलाने पर चर्चा हुई. बैठक में विपक्ष के तेवर काफी आक्रामक दिखाई दिए. बजट सत्र के इस बार भी हंगामेदार होने के आसार है.सत्र की शुरूआत राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के भाषण से होगी, जो मंगलवार सुबह सेंट्रल हॉल से लोकसभा और राज्यसभा को संयुक्त रूप से दिया जाएगा. बैठक में गुलाम नबी आजाद ने यह आश्वासन दिया है कि सेशन के दौरान कांग्रेस सरकार का साथ देगी.
 
बता दें कि सत्र के पहले चरण में 25 फरवरी को रेल मंत्री सुरेश प्रभु रेल बजट पेश करेंगे, 26 फरवरी को आर्थिक सर्वे और 29 फरवरी को आम बजट पेश किया जाएगा. बजट सत्र के दूसरे चरण में संसद में फंसे अहम बिल जैसे जीएसटी बिल, व्हिसल ब्लोअर्स प्रोटेक्शन बिल (संशोधित) और इंडस्ट्रीज (डेवलपमेंट एंड रेगुलेशन) बिल पर चर्चा की जाएगी.