नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने आज दिल्ली के जलमंत्री कपिल मिश्रा को फटकार लगाई है. चीफ जस्टिस ने जाट आंदोलन के कारण दिल्ली में जल आपूर्ति बाधित संबंधी याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि हर मुद्दे पर आप लोग अदालत पहुंचे जाते हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को कहा कि आप अपने दफ्तर में बैठे रहते हैं, जबकि आपको हरियाणा सरकार से बात करके इस मुद्दे को सुलझाने में अपनी भूमिका तय करनी चाहिए थी. कोर्ट ने यह भी कहा कि दिल्ली सरकार हर मुद्दे पर अदालत का रुख कर लेती है.

कोर्ट ने मुनक नहर से पानी की सप्लाई को लेकर दाखिल दिल्ली सरकार की याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया है जिसके बाद मजबूरन केजरीवाल सरकार को अपनी याचिका वापस लेनी पड़ी.

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार की ओर से जल संकट को लेकर सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गयी थी. इस संबंध में सरकार के वरिष्ठ स्थायी अधिवक्ता राहुल मेहरा ने कहा था कि मामले को लेकर याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गयी है जिसमें मुद्दे पर जल्द सुनवाई की अपील की गयी है.

याचिका में कहा गया है कि केंद्र को मुनक नहर से पानी की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए सेना तैनात करनी चाहिए. आज सुबह सेना ने मुनक नहर को प्रदर्शनकारियों से अपने कब्जे में ले लिया है.

इस खबर के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करके सेना को धन्यवाद दिया. उन्होंने ट्वीट किया कि दिल्ली वालों के लिए खुशखबरी है. आर्मी ने मुनक नहर को प्रदर्शनकारियों से अपने कब्जे में ले लिया है.

उन्होंने लिखा कि हमलोग दिल्ली को जल्द ही पूरी तरह से पानी की सप्लाई देने की कोशिश कर रहे हैं. मुनक नहर को थोड़ा नुकसान पहुंचाया गया है लेकिन इससे ज्यादा परेशान होने की जरुरत नहीं. इस कार्य के लिए मैं सेना को धन्यवाद देता हूं.