चंडीगढ़. हरियाणा में अन्य पिछड़ा वर्ग के तहत आरक्षण की मांग को लेकर जाटों के प्रदर्शन से राज्य के कई हिस्सों में रेल एवं सड़क यातायात प्रभावित हुआ है. बढ़ते जाट आंदोलन को देखते हुए प्रशासन ने प्रभावित जिलों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी है. जाटों का प्रदर्शन रोहतक-झज्जर क्षेत्र से सोनीपत, भिवानी, हिसार, फतेहाबाद और जींद जिलों तक फैल गया.
 
प्रदर्शनों में बड़ी संख्या में महिलाएं भी शामिल हो गईं. सोनीपत में प्रदर्शनों में जहां वकील शामिल हुए, बड़ी संख्या में छात्रों ने रोहतक में प्रदर्शन किया. प्रदर्शनकारी सरकारी नौकरियों और शैक्षणिक संस्थानों में अन्य पिछड़ा वर्ग के तहत आरक्षण की मांग कर रहे हैं.
 
एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि जाट आंदोलन से रोहतक, सोनीपत और झज्जर सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं, जहां 2जी और 3जी सहित इंटरनेट सेवा मध्यरात्रि से बंद कर दी गई हैं. हरियाणा पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “ऐसा इसलिए किया गया है, ताकि अफवाहें न फैलें, क्योंकि इससे स्थिति अनियंत्रित हो सकती है.”
 
रोहतक जिले में गुरुवार शाम प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच उस वक्त झड़प हो गई, जब पुलिस ने प्रदर्शनकारियों की ओर से लगाए गए नाकों को हटाने की कोशिश की. प्रदर्शनकारियों ने पत्थरों और ईटों से हमले किए. इस झड़प में पुलिस का एक वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गया. 
 
हरियाणा के रोहतक, झज्जर सहित कई अन्य जिलों के अधिकांश हिस्सों में आंदोलन की वजह से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है. जाट आंदोलन शुक्रवार को छठे दिन भी जारी है. हरियाणा सरकार ने इस मुद्दे को सुलझाने के लिए शुक्रवार को चंडीगढ़ में सभी पार्टियों की बैठक बुलाई है.