नई दिल्ली. जेएनयू मामले में गिरफ्तार किए गए जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की है. इस पर शुक्रवार को सुनवाई होनी है. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की तरफ से बनाए गए वकीलों के पैनल ने भी सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट सौंप दी है. साथ ही कुछ वीडियो भी कोर्ट को सौंपे हैं. इसके अलावा हाईकोर्ट रजिस्ट्रार ने भी अपनी रिपोर्ट सौंप दी है.
 
 
जमानत याचिका में कन्हैया की ओर से कहा गया कि वह बेगुनाह है. पुलिस को अब हिरासत की जरूरत नहीं है. रिपोर्ट कहती है कि उसके खिलाफ ठोस सबूत नहीं मिले हैं. उसके खिलाफ ठोस सबूत मिलने से पहले ही गुनाहगार जैसा बर्ताव किया गया. पटियाला हाउस में उसे पीट-पीटकर मार डालने की कोशिश की गई. उसके अधिकारों का हनन किया गया. कन्हैया ने जेल में भी जान का खतरा बताया है.
 
 
याचिका में यह भी लिखा गया है कि पटियाला हाउस कोर्ट में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बावजूद सुरक्षा नहीं हो पाई. वहां उसे फेयर ट्रायल नहीं मिलेगा. इसलिए ऐसे हालात में सुप्रीम कोर्ट जमानत दे. इससे पूर्व दिल्ली पुलिस कमिश्नर बीएस बस्सी नरम रुख अख्तियार करते हुए कह चुके हैं कि पुलिस कन्हैया की जमानत का विरोध नहीं करेगी.