नई दिल्ली. जेएनयू में देश विरोधी नारे लगाने के आरोप में गिरफ्तार छात्र संघ के नेता कन्हैया कुमार की कुछ देर में पटियाला हाउस कोर्ट में पेशी होगी. वकील कोर्ट परिसर में तिरंगा लेकर नारेबाजी कर रहे हैं. वकीलों का दो गुट आपस में भिड़ गया है. एक गुट कन्हैया का समर्थन कर रहा है, दुसरा गुट कन्हैया का विरोध कर रहा है. 
 
दोनों गुटों ने क्या कहा?
नारेबाजी करने वाले वकीलों में विक्रम चौहान भी थे, जिन पर पत्रकारों के साथ मारपीट का आरोप है. इन वकीलों का आरोप है कि दूसरे गुट ने परिसर में कश्मीर की आजादी को लेकर नारे लगाए, जिसका उन्होंने विरोध किया. वहीं, दूसरे गुट का कहना है कि कन्हैया को लेकर कोर्ट को फैसला करना चाहिए. लोगों द्वारा उसे देशद्रोही कहे जाने का कोई मतलब नहीं बनता.
 
पत्रकारों के साथ मारपीट
वकीलों के दोनों गुटों के बीच भिड़ंत के दौरान पत्रकारों के साथ मारपीट भी की गई. हंगामें के बाद कोर्ट परिसर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिए गए हैं. इससे पहले सोमवार को भी कन्हैया की पेशी के दौरान कुछ पत्रकारों के साथ वकीलों ने मारपीट की थी.
 
फर्स्ट पोस्ट के पत्रकार तारिक अनवर ने बताया कि कन्हैया का विरोध कर रहे वकीलों ने उनकी पिटाई की है. वहीं एक अग्रेजी चैनल की पत्रकार मिनाक्षी ने बताया कि उनका फोन छीनकर विडियो डिलीट कर दिया गया है. इसके अलावा कोर्ट के बाद पत्रकारों पर पत्थर भी फेंके गए.
 
SC में भी लगाए थे नारे
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान एक वकिल राजीव तडाक ने वंदे मातरम् के नारे लगाए. ऐसा करने पर राजीव तड़क को हिरासत में ले लिया. माफी मांगने के बाद उसे छोड़ दिया गया. कोर्ट ने मामले को गंभीरता से लेते हुए सख्‍ती से पूछा,’ क्‍पया कोर्ट में अब यह सब होता है?’ कोर्ट की टिप्पणी के बाद वकील ताडव ने माफी मांग ली. इस पर कोर्ट ने उन्हें माफ कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा,’हम सब देशभक्त है. कोई भी मातृभूमि को नीचे गिराना नहीं चाहता. लेकिन कृपया हम कानून अपने हाथ में ले सकते हैं.’
 
सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था
कोर्ट से बाहर आने के बाद तडाक से जब मीडिया ने पूछा कि क्‍या वे शर्मिंदा हैं तो ताडव ने कहा,’नहीं शर्मिंदा नहीं हूं.’ तडाक और उनके साथियों ने मीडियाकर्मियों से बात करने के दौरान भी वंदे मातरम और भारत माता की जय का नारा लगाया. वहीं सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने क‍हा कि कन्हैया कुमार के मामले से जुड़े वकील ही पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई के दौरान मौजूद रहेंगे. दिल्ली पुलिस के वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सुनवाई के लिए पुलिस ने सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था की है.
 
क्या है मामला?
बता दें कि पुलिस ने देशद्रोह के आरोप में जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया को गिरफ्तार किया है. पुलिस को इस मामले में 7 से 8 लोगों की तलाश है. मंगलवार को जेएनयू परिसर में छात्रों के एक समूह ने एक समारोह आयोजित किया था और संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को साल 2013 में फांसी दिए जाने के मुद्दे पर सरकार और देश के खिलाफ नारे लगाए थे.