नई दिल्ली. पटियाला हाउस कोर्ट के सामने कल पत्रकारों के साथ हुई मारपीट के विरोध में पत्रकारों ने प्रेस क्लब ऑफ इंडिया से सुप्रीम कोर्ट तक मार्च निकाला. मार्च में कई बड़े पत्रकारों ने शिरकत दी.
 
जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की पेशी के दौरान सोमवार को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में जमकर हंगामा हुआ.
 
हंगामे के दौरान मीडियाकर्मियों के साथ हुई मारपीट और बदसलूकी को मार्च निकालने की वजह बताया जा रहा है. आरोप है कि कोर्ट परिसर में बीजेपी विधायक ओपी शर्मा और कुछ अन्य ने नारेबाजी कर रहे युवकों की पिटाई की है.
 
क्या है पूरा मामला?
 
बीजेपी विधायक ओपी शर्मा और उनके समर्थकों पर छात्रों और महिला पत्रकारों से बदसलूकी का आरोप लगा है. पटियाला हाउस कोर्ट के बाहर विधायक के समर्थक नारेबाजी कर रहे थे. प्रदर्शनकारियों ने ‘आज तक’ की रिपोर्टर अनुषा सोना और पूनम शर्मा के भी फोन छीन लिए और उन्हें कोर्ट से बाहर कर दिया.
 
जानकारी के मुताबिक, मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट में मौजूद पत्रकारों से भी दुर्व्यवहार किया गया. प्रदर्शन कर रहे वकीलों ने महिला पत्रकारों के फोन छीन लिए और उन्हें कोर्टरूम के अंदर नहीं जाने दिया. उन्होंने महिला पत्रकारों को धमकी भी दी.