गाजियाबाद. ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील की आईटी इंजीनियर दीप्ति सरना के अपहरण मामले में नया मोड़ आया है. जानकारी के मुताबिक दीप्ति का अपहरण करने वाले व्यक्ति का नाम देवेंद्र कुमार है और वह उससे प्यार करता है.मामले में पुलिस ने गाजियाबाद से 5 लोगों को गिरफ्तार किया है.
 
गाजियाबाद पुलिस सोमवार को  प्रेस कॉंन्फ्रेंस कर पूरे मामले से जुड़ी कई जानकारियां दी हैं. गाजियाबाद एसएसपी धर्मेंद्र ने बताया कि सोनीपत का देवेंद्र कुमार पिछले एक साल से दीप्ति का पीछा कर रहा था. उसने पहली बार उसे राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर देखा था, तभी से उससे एकतरफा प्यार करने लगा था. देवेंद्र ने एक साल में 150 बार रेकी की थी इस बीच वह वैशाली मेट्रो से विक्रम ऑटो में बैठकर उसका घर भी देख चुका था.
 
सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार यह एक-तरफा प्यार का मामला है. गिरफ्तार लोगों में एक युवक भी है जो दीप्ति से प्यार करता था. इस युवक पर हरियाणा में कई अपराधिक मामले दर्ज हैं. इसपर 20 हजार का ईनाम भी था. वह ही ऑटो को ड्राइव कर रहा था.
 
प्यार करने लग गया था देवेंद्र
 
देवेंद्र एक पढ़ा लिखा युवक है जिसने बीए की हुई है. बताया जा रहा है कि मास्टरमाइंट से पुलिस ने पूछताछ की और सामने आया कि देवेंद्र मानसिक रोगी है. जिसने लड़की को पहले कहीं जाते हुए देखा था और उसे एक तरफा प्यार हो गया था. इसलिए अगवा करने के बाद भी उसने लड़की को सुरक्षित रखा था. दीप्ती को इसकी जानकारी नहीं थी. पुलिस का प्रेशर बढते देख उसने दीप्ती को रिहा कर दिया.
 
क्या है मामला ?
 
अपहृत युवती दीप्ति सरना मशहूर शॉपिंग वेबसाइट स्नैपडील में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर कार्यरत है. 24 वर्षीय दीप्ति शाम को गुड़गांव में स्थित स्नैपडील के ऑफिस से काम समाप्त करके गाजियाबाद अपने घर के लिए निकली थी. रात करीब 8 बजे दीप्ति गाजियाबाद के वैशाली मेट्रो स्टेशन पर उतरी और हमेशा की तरह शेयरिंग ऑटो लेकर गाजियाबाद के बस स्टैंड की तरफ की ओर गयी जिसके बाद उसका अपहरण कर लिया गया.
 
ऑटो में बैठने के बाद दीप्ति ने अपने घर पर फोन किया और बताया कि वह रास्ते में हैं उसे लेने के लिए गंतव्य स्थान पर कोई घर से आए. दीप्ती के पिता ने पुलिस को कथित तौर पर बताया कि ऑटो ड्राइवर दीप्ति को जबरन किसी दूसरी जगह ले जा रहा था और दीप्ति उसे ऐसा करने पर डांट रही थी. इसके बाद से दीप्ति का फोन ऑफ आने लगा.