चंडीगढ़. पंजाब में विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की सेवाएं लेने की तैयारी कर रही है, ताकि आगामी विधानसभा चुनावों में पार्टी की मजबूत रणनीति बनाई जा सके. पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमरिंदर सिंह ने कहा, “अखिल भारतीय कांग्रेस समिति ने पंजाब कांग्रेस को आने वाले विधानसभा चुनावों में प्रशांत किशोर की मदद लेने की मंजूरी दे दी है.”
 
किशोर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए 2014 के लोकसभा चुनावों में रणनीति बनाने का श्रेय जाता है, जिसमें भारतीय जनता पार्टी को बहुमत मिला था. वहीं, वे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके जनता दल यूनाइटेड के लिए पिछले साल नबंवर में हुए विधानसभा चुनावों में रणनीति बनाने के लिए जाने जाते हैं.
 
वे पंजाब विधानसभा चुनावों को लेकर कांग्रेस नेतृत्व से संपर्क में हैं. अमरिंदर सिंह ने इससे पहले कहा कि प्रशांत किशोर को लाने का अंतिम निर्णय पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी लेंगे. प्रशांत ने हाल ही में पंजाब की राजनीतिक स्थिति का जायजा लेने के लिए राज्य का दौरा किया था. 
 
कांग्रेस पंजाब में 2002-2007 के दौरान सत्ता में थी, लेकिन 2007 के चुनावों में उसे हार का सामना करना पड़ा और 2012 के चुनाव में उसे अकाली दल-बीजेपी गठबंधन से हारना पड़ा. फरवरी 2012 के लोकसभा चुनावों में राज्य में तितरफा मुकाबला देखा गया. वहीं, आम आदमी पार्टी ने भी साफ किया है आगामी विधानसभा चुनावों में वह भी हाथ आजमाएगी, जिन्हें काफी मजबूत प्रतिद्वंद्वी माना जा रहा है.