अंगामाली. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुलेट ट्रेन मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि इस नेटवर्क पर हजारों करोड़ रुपया खर्च करना उन लाखों लोगों को फायदा नहीं पहुंचाएगा जो अपने रोजाना के सफर के लिए मौजूदा रेलवे नेटवर्कों पर निर्भर हैं. उन्होंने एनएसयूआई की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए छात्रों से मोदी सरकार की गरीब विरोधी नीतियों से लड़ने का अनुरोध किया.
 
‘बुलेट से सिर्फ कुछ लोगों को मिलेगा फायदा’
राहुल ने कहा कि सालाना रेल बजट 140,000 करोड़ रुपए का है जबकि सरकार ने 98,000 करोड़ रुपया बुलेट ट्रेन नेटवर्क पर खर्च करने का फैसला किया है. उन्होंने आरोप लगाया कि यह देश के सिर्फ एक छोटे से तबके को फायदा पहुंचाएगा. मुबंई और अहमदाबाद के बीच भारत की प्रथम बुलेट ट्रेन नेटवर्क परियोजना को अंतिम रूप दिए जाने के दो महीने बाद उनकी यह टिप्पणी आई है.
‘संस्थागत हत्या का शिकार हुआ है रोहित’
हैदराबाद सेंटर यूनिवर्सिटी में आत्महत्या करने वाले दलित छात्र रोहित वेमुला को श्रद्धांजलि देने के बाद राहुल ने एनएसयूआई नेताओं से बात करते हुए कहा कि वह एक संस्थागत हत्या का शिकार हुआ है. उन्होंने आरोप लगाया कि वाम और आरएसएस दोनों इस रूप में एक जैसे हैं कि दोनों ही एक विचार को हर जगह थोपते हैं. जो असहमत होते हैं उन्हें कोई जगह नहीं दी जाती. वाम हिंसक और राजनीतिक रूप से असहिष्णु है. 
 
‘RSS की कठपुतली हैं मोदी और BJP’
राहुल ने बीजेपी और मोदी को आरएसएस की कठपुतली बताते हुए कहा कि देश के युवाओं के बीच असहमति की एक भावना उभर रही है और संघ संचालित बीजेपी इसे महसूस कर रही है और इस तरह इसे दबाने की पूरी कोशिश कर रही है.