मुंबई. 2008 में हुए मुंबई बम धमाकों को लेकर आतंकी हेडली ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कई अहम खुलासे किए हैं. सरकारी वकील उज्जव निकम ने मीडिया से बातचीत में बताया कि हेडली की गवाही से पाकिस्तान के खिलाफ कई अहम सबूत मिले हैं. 
 
निकम ने बताया कि हेडली आतंकी हाफिज सईद से काफी प्रभावित था और इसलिए वह 2002 में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ गया था. गवाही के दौरान हेडली ने कई बातों पर मंजूरी दिखाई है जिसमें यह भी कहा कि वह पाकिस्तानी खुफिया एंजेसी आईएसआई से भी जुड़ा हुआ था. 
 
इस ईमेल पर होती थी बातचीत
 
हेडली ने बताया कि वह लश्कर आतंकी साजिद मीर से chalchalo@yahoo.com ईमेल आईडी पर बातचीत करता था. इन आतंकियों को भारत में हमला करने का उद्देश्य तो था. साथ ही कश्मीर को भारत से आजाद कराने का मकसद भी था.
 
हेडली के 10 बड़े खुलासे
 
.आतंकी हेडली ने हाफिज सईद की तस्वीर को पहचाना
.मुजफ्फराबाद कैंप में हाफिज ने और लख्वी ने दी थी हेडली को ट्रेनिंग
.हाफिज और लखवी भारत को दुश्मन बताकर जेहाद के बार में बताते थे
.26/11 से पहले दो बार आतंकी हमले की कोशिश हुई थी
.कसाब एंड टीम ने ही की थी 26/11 से पहले हमले की कोशिश
.लश्कर कमांडर साजिद मीर के कहने पर ही इंडिया आया था 
.साजिद के कहने पर ही नाम दाऊद गिलानी से बदल डेविड हेडली रखा
.26/11 हमले से पहले 7 बार मुंबई आया था हेडली
.हमले के बाद मार्च 2009 में दिल्ली आया था
.पाकिस्तानी आर्मी में डॉक्टर तहव्वुर हुसैन राणा ने वीजा दिलाने में की मदद 
हेडली की गवाही से कई मोड़ सामने आए हैं और अगली सुनवाई कल यानि मंगलवार को सुबह 7 बजे होगी.