नई दिल्ली. दिल्ली के रेयान इंटरनेशनल स्कूल के छात्र दिव्यांश की मौत के मामले में उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी साजिश की आशंका जताई है. उन्होंने स्कूल पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है.

सिसोदिया ने कहा है कि बच्चे के पिता की बात पर गौर ही नहीं किया जा रहा है. सिसोदिया ने ऐसी आशंका इसलिए जताई क्योंकि उनका कहना है कि परिवार ने जिस तरीके से दुराचार के आरोप लगाए हैं और स्कूल उस पर ध्यान नहीं दे रहा है. जिस तरह बच्चा सेप्टिक टैंक के पास पहुंचा और उसे पानी से निकालने के लिए स्कूल का कोई स्टाफ तैयार नहीं हुआ.

सिसोदिया ने कहा कि अभिभावकों की बात को नजर अंदाज किया जा रहा है कि बच्चे के ऐनल पॉइंट्स पे कॉटन लगी हुई थी. एक होनहार बच्चे को किसी मेडिकल टेस्ट के बिना ही स्कूल प्रशासन का हाइपर एक्टिव और दिमागी रूप से ठीक न बताना भी आशंका का एक कारण है.

सिसोदिया ने कहा कि रिपोर्ट चिंता में डालती है कि प्राइवेट स्कूल इतना लापरवाह कैसे हो सकता है. मैनेजमेंट और स्टाफ बच्चों की सुरक्षा के साथ इतना खिलवाड़ कर रहा है तो मन में डर पैदा होता है. इसकी गंभीरता से जांच होनी चाहिए. उन्होंने भरोसा दिलाया कि स्कूल पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

 ‘दिव्यांश के निजी अंगों पर रुई क्यों लगी थी ?’

दिव्यांश के पिता ने भी बच्चे से दुराचार की आशंका जताते हुए कहा कि अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई.. पुलिस मुझसे सवाल क्यों नहीं पूछ रही है ? जाहिर है मामले को दबाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि मेरे पास उस पूरे इलाके का नक्शा है।. वहां बहुत से सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. उस दिन वो कैमरे कहां थे ? टंकी पर 20-25 किलो का पत्थर रखा था. बच्चे ने उसे कैसे उठाया होगा? टंकी में गिरने से पहले उसने जूते क्यों उतारे? और ‘दिव्यांश के निजी अंगों पर रुई क्यों लगी हुई थी ?