इलाहाबाद. विहिप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दरख्वास्त की कि वह अयोध्या मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोडें और जनता को एक साफ संदेश दें की उनकी सरकार राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण को लेकर प्रतिबद्ध है. विहिप ने कहा है कि हिंदू समाज ज्यादा अब और प्रतिक्षा नहीं कर सकता, इसलिए केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट की स्पेशन बेंच से प्रतिदिन इस मामले की सुनवाई करवाए. यदि यह संभव नहीं तो राज्यसभा और लोकसभा का संयुक्त सदन बुलाकर इस विषय पर निर्णय किया जाए.
 
यहां संगम किनारे संघ परिवार के अनुषंगी संगठन विहिप के केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अयोध्या का एक दौरा करने और राम जन्मभूमि में एक सेल्फी लेने का अनुरोध किया गया ताकि यह संदेश दिया जा सके कि केंद्र की एनडीए सरकार मंदिर निर्माण को लेकर प्रतिबद्ध है. 
 
इस बैठक में विहिप के कई बड़े पदाधिकारियों ने शिरकत की जिसमें गौहत्या के बढ़ते मामलों पर भी चिंता व्यक्त की गई. विहिप के वरिष्ठ नेता राम विलास वेदांती ने कहा, हिंदू समुदाय के लोगों का समर्थन प्राप्त करने वाले नरेंद्र मोदी के लिए यह जरूरी है कि वह अयोध्या मसले पर अपनी चुप्पी तोड़ें.
 
उन्होंने विभिन्न देशों में कई तीर्थस्थानों का दौरा किया जिनमें से कई दूसरे धर्मों से संबंधित हैं और वहां पर सेल्फी भी खींची है. अब समय है कि वह अयोध्या का दौरा करें और यहां भी वैसा ही करें.