नई दिल्ली. बेंगलुरु में तंजानिया की छात्रा के साथ हुई अभद्रता पर विदेश मंत्रालय ने तीखा विरोध जताया है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप ने गुरुवार को मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि जांच के लिए मंत्रालय की ओर से एक टीम बेंगलुरु भेजी जाएगी.
 
विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘बंगलुरु में जो कुछ घटा वह एक सड़क हादसे से जुड़ा है. यह एक दुखद घटना है जो नहीं होनी चाहिए थी. अगर उन्हें लगता है कि यह नस्लीय हमला है तो इसकी भी जांच कराई जा रही है.’
 
विदेशी छात्र हमारे लिए अहम
विदेशी छात्रों की सुरक्षा पर विकास स्वरुप ने कहा कि सभी विदेशी छात्र हमारे लिए अहम है. उनकी सुरक्षा करना हमारी जिम्मेदारी है. उन्होंने कहा, ‘हम अफ्रीकी छात्रों को आश्वस्त कर देना चाहते हैं कि वे हमारे देश में सुरक्षित हैं.’ उन्होंने यह भी कहा कि देश में विदेशी छात्रों के आंकड़े जुटाए जा रहे हैं. दरअसल कुछ छात्र सेल्फ फाइनेंस के जरिए आते हैं, इसलिए सही आंकड़ा उपलब्ध नहीं है.
 
क्या है मामला ?
 
यह घटना रविवार की है जब एक विदेशी छात्र की तेज रफ्तार कार के नीचे आने से एक महिला की मौत होने पर लोग नाराज़ हो गए थे. उन्होंने पहले कार चला रहे एक दूसरे विदेशी छात्र की पिटाई की और उसकी कार को आग लगा दी. इस दौरान उन्होंने वहां से गुजरने वाली तंजानिया की छात्रा से बदसलूकी की और उसके कपड़े फाड़ दिए.