सीतापुरा. गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पठानकोट में हुए आतंकवादी हमले को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. राजनाथ ने कहा कि भारत में ज्यादातर हमले की साजिश पाकिस्तानी सरजमीन से रची जाती है. पाकिस्तान को अपनी सरजमीं से गतिविधियां संचालित कर रहे आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. हालांकि सिंह ने यह भी कहा कि यदि पाक अपने यहां पनप रहे आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करता है तो भारत उसके साथ खड़ा होगा. 
 
बता दें कि केन्द्रीय गृह मंत्री सिंह ने यह बात सीतापुरा स्थित एक होटल में काउंटर टेरेरिज्म कॉन्फ्रेंस-2016 के समापन पर कही. उन्होंने कहा कि आतंकवाद को कोई धर्म नहीं होता है. धर्म आतंकवाद फैलाने के लिए प्रेरित नहीं करता है.
 
‘सरकार एजेंसियों से हर पहलु की करवा रही है जांच’
गृहमंत्री ने कहा कि आतंकवाद के मामले में कोई बेगुनाह फंसे नहीं और गुनहगार बचे नहीं. इसलिए आतंकवाद से जुड़े मामलों की भारत सरकार सुरक्षा एजेंसियों से हर पहलुओं से जांच करवा रही है. साथ ही गृहमंत्री ने बीते कुछ समय में सुरक्षा एजेंसियों की कार्रवाई को लेकर संतुष्टि भी जताई. उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा व्यवस्था को और बेहतर बनाने की जरूरत है. इस तरह के खतरों का मुकाबला करने के लिए हमें और संवेदनशील सुरक्षा उपाय करने की जरूरत है.
 
भारत ने देखे 2 बड़े आतंकी हमले
गृहमंत्री ने कहा कि भारत ने दो बड़े आतंकी हमले देखे हैं जिसका प्रभाव अलग रहा है. 26/11 का मुंबई हमला देश की आर्थिक राजधानी पर बुरा असर करने वाला था. वहीं हाल ही में हुए पठानकोट हमले में सेना पर निशाना बनाया गया. आतंकवाद का खतरा और बढ़ जाता है जब कुछ देश इसे अपने विदेश नीति का हिस्सा बनाकर संचालित करने में लग जाते हैं. कुछ देशों के इस तरह के एजेंडा पर काम करने से आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई को धक्का लगता है.