बेंगलुरु. बेंगलुरु में कार एक्सीडेंट में महिला की मौत के बाद तंजानिया की अफ्रीकी मूल की छात्रों के साथ हुई वारदात पर उनके वकील बोस्को कावीसी का कहना है कि गुस्साई भीड़ ने दोनों लड़कियों के साथ बुरा व्यवहार तो किया ही साथ में उनके कपड़े भी फाड़ दिए.
 
क्या है मामला ?
 
यहां रविवार की शाम करीब 7 बजे पांच अफ्रीकी लड़कियां की तेज रफ्तार कार से 35 साल की महिला की कुचल कर मौत हो गई थी. इस बीच गुस्से में आए लोगों ने कार को रोक लिया और छात्र-छात्राओं पर गुस्सा निकाला. इस मामले में तंजानिया की एंबेसी ने भारत सरकार से जवाब मांगा है.
 
नशे में धुत थी छात्र !
 
जानकारी के अनुसार ये सब उस समय नशे में धुत थे. यह देख कर भीड़ का गुस्सा इतना बढ़ गया कि उन्होंने कार में आग लगा दी. उन्हें पीटने के बाद पुलिस को सौंप दिया. हालांकि पुलिस का कहना है कि वे नशे में थी या नहीं, यह रिपोर्ट आने के बाद ही तय होगा.
 
जानकारी के अनुसार एक स्थानीय इंजीनियरिंग कॉलेज में पड़ने वाली दोनों अफ्रीका मूल की छात्राओं के साथ उग्र भीड़ ने बदतमीजी की है. इस मामले में तंजानिया की छात्रा की शिकायत पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 323, 324, 506, 509 के साथ-साथ 354 यानी महिलाओं के साथ शारीरिक तौर पर छेड़खानी का मामला दर्ज किया है.