नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली के वंसत कुंज में दिव्यांश नाम के बच्चे की मौत पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हुई है. मामले पर कोर्ट ने सभी पक्षों से विस्तृत जवाब मांगा है.
 
सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा कि इस तरह की घटनाएं बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है साथ ही ऐसी घटनाओं पर रोक लगाई जानी बहुत जरुरी है. मामले की गंभीरता को देखते हुए हाईकोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 9 फरवरी रखी है.
 
क्या है मामला?
 
बता दे कि दिव्यांश की उम्र 6 साल थी और वह स्कूल में 30 जनवरी को कविता प्रतियोगिता के लिए आया था लेकिन सातवें पीरियड के बाद से वह स्कूल में गायब था. दिव्यांश के वापस न लौटने पर उसकी तलाश की जाने लगी जिसके बाद वह स्कूल के वाटर टैंक में बेहोश मिला. उसे हॉस्पिटल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित किया गया.
 
परिजनों ने लगाए ये आरोप
 
दिव्यांश के परिजनों का आरोप है कि स्कूल प्रशासन ने लापरवाही तो बरती साथ ही उनका रवैया भी सही नहीं है. पिता का कहना है कि जब मैने अपने बच्चे के लिए प्रिंसिपल से पूछा तो वह कुछ नहीं बोलीं लेकिन जब चीख कर पूछा गया तो उन्होंने चीख कर जवाब दिया कि चुप रहेंगे तो उसी में आपकी भलाई है.
 
परिजनों का आरोप है कि दिव्यांश की मौत महज एक हादसा नहीं है यह एक साजिश है. साथ ही स्कूल की तरफ से उन्हें धमकी भी दी जा रही हैं.आरोप यह भी है कि टैंक का ढक्कन खुला क्यों छोड़ा गया साथ ही टैंक तक पहुंचने के लिए चार गेट है बच्चा उन्हें पार करके कैसे पहुंच गया.