नई दिल्ली. प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संपत्ति का ब्योरा पेश किया गया है. जानकारी के मुताबिक मोदी के पास पिछले वित्त वर्ष के अंत में हाथ में कुल मात्र 4,700 रुपये की नकदी थी. यह वित्त वर्ष के मध्य में 18 अगस्त, 2014 को घोषित विवरण में दिखायी गई 38,700 रुपये की नकदी से कम है.

1 करोड़ 41 लाख से ज्यादा की संपत्ति

पीएम मोदी की कुल परिसंपत्ति बढ़कर 1.41 करोड़ रुपये की हुई है. इसमें मुख्य योगदान एक रिहायशी परिसम्पत्ति का है जो 13 साल पहले उन्होंने खरीदी थी और उसका मूल्य तब से 25 गुना से अधिक बढ़ चुका है.

हालांकि, समीक्षाधीन अवधि में मोदी की चल-अचल परिसंपत्तियों का कुल मूल्य 1,26,12,288 करोड़ रुपए से बढ़ कर मार्च 2015 के अंत में 1,41,13,893 करोड़ रुपए तक पहुंच गया है.

पुराने बैंक का खाता ही बरकरार

इस घोषणा के मुताबिक प्रधानमंत्री के पास कोई मोटर वाहन, विमान, यॉट नहीं है. वह अब भी गुजरात में अपने पुराने बैंक का खाता ही बरकरार रखे हुए हैं. दिल्ली में उनका कोई बैंक खाता नहीं है.

क्या-क्या है मोदी के पास

उनके पास चार सोने की अंगूठियां हैं। उनका कुल वजन करीब 45 ग्राम और कुल मूल्य मार्च 2015 के अनुसार करीब 1.19 लाख रुपये था. इन अंगूठियों की कीमत 18 अगस्त 2014 के मुकाबले थोड़ी कम हुई है जबकि उनका मूल्य 1.21 लाख रुपये आंका गया था.

मोदी के निवेश में 20,000 रुपये का एलएंडटी इन्फ्रा बॉन्‍ड (कर बचत वाला), करीब 5.45 लाख रुपये के राष्ट्रीय बचत प्रमाण-पत्र और 1.99 लाख रुपए की जीवन बीमा पॉलिसी शामिल हैं और इस तरह उनके पास कुल चल संपत्ति 41.15 लाख रुपए है.

अचल संपत्तियों में गांधीनगर में एक आवासीय परिसंपत्ति का चौथाई हिस्सा शामिल है और इसमें उनके हिस्से में 3,531.45 वर्गफुट का दायरा है जिसमें निर्मित क्षेत्र 169.81 वर्गफुट है. प्रधानमंत्री में कार्यालय ने कहा कि यह विरासत में मिली परिसंपत्ति नहीं है. घोषणा के मुताबिक इसे उन्होंने 25 अक्टूबर 2002 को खरीदा था.

घोषणा के मुताबिक प्रधानमंत्री ने इसे 1,30,488 रुपये में खरीदा था जबकि निर्माण आदि के तौर पर इस जमीन पर 2,47,208 रुपये का निवेश दिखाया गया है. परिसंपत्ति का अनुमानित मौजूदा बाजार मूल्य एक करोड़ रुपये बताया गया है. इस तरह उक्त संपत्ति की कीमत खरीदने के बाद से लेकर अब तक 13 साल में 25 गुना से अधिक बढ़ी है.