नई दिल्ली. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने Goods And Service Tax यानि GST बिल का श्रेय यूपीए सरकार को दिया है. जेटली ने कहा है कि जीएसटी यूपीए का महत्वपूर्ण सुधार है. यदि इसे तैयार करने का श्रेय किसी को देना हो तो यह मैं उन्हीं को दूंगा.

द इकॉनोमिक टाइम्स ग्लोबल बिजनेस सम्मिट में जेटली ने कहा है कि कांग्रेस जीएसटी कानून की जरूरत को समझेगी और उसे संसद के बजट सत्र में राज्यसभा में इसे पारित कराने में मदद करनी चाहिए. संसद का बजट सत्र अगले महीने शुरू होगा.

उन्होंने कहा कि अब, यदि लेखक ही अपनी पटकथा के खिलाफ हो जाए तो मैं क्या कर सकता हूं. मैं उनके पास गया हूं, मैंने उनसे बात की है. मैंने उन्हें पूरा ब्योरा दिया और मुझे उम्मीद है कि वे इसकी वजह समझेंगे और जीएसटी पारित कराने के पीछे के तर्क को समझेंगे.

जेटली ने कहा कि कांग्रेस ने तीन आपत्तियां उठाई हैं जो उसकी मूल भावना के विपरीत है, जिसे वह खुद लेकर आए. मंत्री ने कहा कि कांग्रेस को छोड़कर हर पार्टी जीएसटी विधेयक का सक्रिय समर्थन कर रही है.

टली ने कहा कि यूपीए के आरजेडी, एनसीपी और जेडीयू जैसे सहयोगी दल इसका खुलकर समर्थन कर रहे हैं. मुझे कोई वजह नहीं दिखती कि कांग्रेस को इस विधेयक के बारे में सोचना चाहिए. यदि विधेयक के किसी विचार पर कोई चर्चा करनी है तो निश्चित तौर पर मैं उनके साथ चर्चा के लिए तैयार हूं, हम दोषपूर्ण कानून बनाकर भावी पीढ़ी पर इसे नहीं थोप सकते.