चेन्नई. केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी और बंडारू दत्तात्रेय के इस्तीफे की मांग कर रहे 60 प्रदर्शनकारियों को चेन्नई में हिरासत में लिया गया है. प्रदर्शनकारी हैदराबाद में दलित छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या और तमिलनाडु में तीन मेडिकल छात्राओं की खुदकुशी के मामले में दोनों मंत्रियों के इस्तीफे की मांग कर रहे थे.

देशभर में छात्र संगठनों ने रोहित वेमुला की कथित आत्महत्या के मामले में विभिन्न विश्वविद्यालयों में एक दिन की हड़ताल बुलाई है. देशभर के करीब 200 छात्र संगठन इस हड़ताल और प्रदर्शन में भाग ले रहे हैं.

बुधवार को तेलंगाना के सभी विश्वविद्यालयों में बंद बुलाया गया है. यह बंद रोहित की खुदकुशी को लेकर आंदोलन कर रही ज्वांइट एक्शन कमेटी की ओर से बुलाया गया है. विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र अब 30 जनवरी को रोहित वेमुला के जन्मदिन पर दिल्ली चलो के नारे के साथ राजधानी दिल्ली आने की तैयारी में हैं. छात्रों की मांग है कि ऐसे मामलों में यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए.

क्या है मामला

रोहित ने 17 जनवरी को यूनिवर्सिटी के एक कमरे में खुदकुशी कर ली थी। रोहित और उसके चार साथियों को यूनिवर्सिटी के हॉस्टल से निलंबित कर दिया गया था, जिसके कुछ ही दिन बाद रोहित ने खुदकुशी कर ली थी.

केंद्रीय मंत्री और वीसी को बर्खास्त करने की मांग

प्रदर्शन कर रहे छात्रों का आरोप है कि केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने कार्रवाई के लिए केंद्र को चिट्ठी लिखी थी, जिसके बाद ही छात्रों को निलंबित किया गया था. ये छात्र बंडारू दत्तात्रेय और यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर अप्पा राव को बर्खास्त करने की मांग पर अड़े हैं.