नई दिल्ली. देश के 67वें गणतंत्र दिवस के मौके पर मंगलवार को राजपथ पर सशस्त्रबलों की परेड जारी है. राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी परेड की सलामी ले रहे हैं. विभिन्न राज्यों की रंगारंग झांकियां भी शुरू हो गई हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह तीनों सेना प्रमुखों के साथ राजपथ पर स्थित अमर जवान ज्योति पर जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी.
 
 
फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि हैं. राजपथ पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पूरे जोशोखरोश के साथ परेड की सलामी ले रहे हैं.
 
 
आज ही के दिन 1950 में देश ने मौजूदा संविधान को अपनाया था और तब से लेकर आज तक हम इस दिन को गणतंत्र दिवस के तौर पर मना रहे हैं. आज राजपथ पर भारत की संस्कृति के रंग और रक्षा क्षेत्र की ताकत का दुनिया के सामने प्रदर्शन किया जा रहा है.
 
 
असम रेजिमेंट और गोरखा राइफल्स के जवान हुए शामिल
200 साल पुरानी राजपूत रेजिमेंट और 127 साल पुरानी गढ़वाल रेजिमेंट भी कदम से कदम मिलाती दिखी. असम रेजिमेंट और गोरखा राइफल्स के जवान भी कंधे से कंधा मिलकर चलते दिखाई दिए. पहली बार पूर्व सैनिकों को समर्पित झांकी भी परेड में शामिल हुई.
 
फ्रांस्वा ओलांद हैं मुख्य अतिथि 
फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि हैं. गणतंत्र दिवस समारोह के इतिहास में पहली बार फ्रांस की सेना का 76 सदस्यीय दल भी राजपथ पर भारत के राष्ट्रपति को सलामी देगा. इस दल में 48 संगीतकारों का दस्ता भी शामिल हुआ.