नई दिल्ली. अरुणाचल में राष्ट्रपति शासन लागू करने की कैबिनेट की सिफारिश पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ट्वीट करते हुए कहा है कि केंद्रीय कैबिनेट का अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करना हतप्रभ करने वाला है. गणतंत्र दिवस से पूर्व यह संविधान की हत्या है. बीजेपी चुनाव नहीं जीत पाई और अब वह पिछले दरवाजे से सत्ता हासिल करना चाहती है.

रोहित मामले में केंद्र पर साधा निशाना

वहीं दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में झंडा फहराने के बाद अपने संबोधन में केजरीवाल ने रोहित वेमुला की आत्महत्या पर भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा. केजरीवाल ने रोहित की खुदकुशी के लिए केंद्र के दो मंत्रियों को जिम्मेदारी ठहराते हुए एक सांसद को भी कठघरे में खड़ा किया.

केजरीवाल ने कहा कि रोहित पढ़ाई-लिखाई में तेज था. स्कॉलर था. आज भी दलित परिवार को इतना आगे बढ़ने में कठिनाई होती है. उसे सम्मान देना चाहिए था, लेकिन व्यवस्था ने ऐसे हालत पैदा किए कि उसे आत्महत्या करनी पड़ी.

‘सीबीआई का दुरूपयोग बंद करे केंद्र

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि मैं केंद्र से अपील करता हूं कि आने वाले समय में हम सहयोग के साथ काम करें. केंद्र सरकार को बड़े भाई की तरह होना चाहिए. भगवान् रामचंद्र के तरह होना चाहिए. सीबीआइ छोड़ने के बजाय अड़ंगा लगाने के बजाय साथ दें तो हम 10 गुना विकास करके दिखाएंगे.