हैदराबाद. छात्रावास में कथित तौर पर खुदकुशी करने वाले दलित छात्र रोहित वेमुला के परिजनों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी की आलोचना करते हुए पूछा है की पीएम इतने दिनों तक चुप क्यों रहे.

रोहित के परिजनों ने हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की तरफ से की गयी अनुग्रह राशि की पेशकश को ठुकरा दिया है. रोहित के पिता ने कहा है कि प्रधानमंत्री ने कहा है कि रोहित भारत मां का बेटा था. मैं उनके बारे में कुछ भी कहने में समर्थ नहीं हूं, लेकिन वे पांच दिनों तक कुछ क्यों नहीं बोले ?

परिसर पहुंची वेमुला की मां राधिका, बहन नीलिमा और भाई राजू ने मांग की कि रोहित की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों पर मामला दर्ज किया जाए. नीलिमा ने कहा कि एचसीयू, जहां उसकी मौत हुई, यदि वह हमें आठ लाख नहीं बल्कि आठ करोड़ रुपये भी देगी, तो वो भी मंजूर नहीं है. गौरतलब है कि एचसीयू ने गुरुवार को रोहित के परिवार को आठ लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की थी।

उन्होंने कहा कि स्मृति ईरानी, पांच दिन के बाद उन्होंने कॉल किया है. पांच दिन क्यों लगा ? आप भी एक औरत हैं. आप भी एक मां हैं. परिवार को फोन करने और मौत पर शोक जताने में पांच दिन लग गए.

रोहित की मां ने कहा कि मै जानना चाहती हूं क्यों उसकी मौत हुई. उसे मारा गया या उसकी मौत हुई ? उसे क्यों निलंबित किया गया ? जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार कर दंडित किया जाना चाहिए. केवल यही चीज मुझे चाहिए.