नई दिल्ली. हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी मामले में मानव संसाधन मंत्रालय की समिति ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है, जिसके बाद मंत्रालय ने मामले में जांच के लिए न्यायिक आयोग के गठन के आदेश दिए हैं.

यह न्यायिक आयोग तीन महीने में अपनी रिपोर्ट जमा करेगा. मंत्रालय ने तथ्यों की जांच करने वाली टीम की रिपोर्ट के आधार पर न्यायिक आयोग गठित करने का फैसला किया है.

आयोग इस बात की जांच करेगा कि आखिर कौन सी वजहें थीं जिस वजह से रोहित को खुदकुशी जैसा कदम उठाना पड़ा. वहीं, एचआरडी मंत्री स्मृति ईरानी ने रोहित की मां से फोन पर बात की और उन्हें न्यायिक जांच के आधार पर न्याय दिलाए जाने का भरोसा दिया है.

क्या है मामला

रोहित समेत अंबेडकर छात्र संगठन के उसके साथी छात्रों पर एबीवीपी के छात्र नेता सुशील कुमार के साथ मारपीट के आरोप लगे थे. इसी को आधार बनाकर इन छात्रों को निलंबित किया गया था. जिसके बाद रोहित ने आत्महत्या कर ली थी.