हैदराबाद. हैदराबाद यूनिवर्सिटी में दलित छात्र की आत्महत्या के बाद आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल धरने पर बैठे छात्रों से मिलने यूनिवर्सिटी पहुंचे. केजरीवाल ने छात्रों को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार को जमकर कोसा है.

केजरीवाल ने अपने संबोधन में कहा कि केंद्र सरकार दलित विरोधी है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की नीति है कि मेरी बात मानो वरना मजा चखा देंगे. केजरीवाल ने कहा कि तमाम रिपोर्ट के बाद ये पता चलता है कि एबीवीपी के जिस छात्र से मारपीट और अस्पताल में भर्ती की खबर थी, वह गलत है.

उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले ने तब गंभीर रूप ले लिया जब केंद्रीय मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने स्मृति ईरानी को पत्र लिखा. उन्होंने कई बार पत्र लिखकर यूनिवर्सिटी में राष्ट्र विरोध गतिविधि की जानकारी मांगी थी. यानी उन्होंने पहले ही मान लिया था कि रोहित ने राष्ट्र विरोध कार्य किया. केजरीवाल ने कहा कि अंबेडकर की सीख पर कोई कार्य कभी राष्ट्र विरोधी नहीं हो सकता.

केजरीवाल ने स्मृति ईरानी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनका बयान बहुत शर्मनाक है. तमाम प्रोफेसरों में भी उनके बयानों को लेकर रोष है. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार न हिंदुओं की है न मुसलमानों की न दलितों की. ये सिर्फ सत्ता की भूखी पार्टी है. केजरीवाल ने यूनिवर्सिटी के वीसी के इस्तीफे की मांग भी की है.