नई दिल्ली. आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के हमले की फिराक में होने की खुफिया जानकारी मिलने के बाद गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सुरक्षाबलों को सतर्क कर दिया गया है. ऐसी खबरें हैं कि आईएस गणतंत्र दिवस पर भारत में आतंकवादी हमला कर सकता है.
 
सूत्रों ने बताया कि अर्धसैनिक बलों को गणतंत्र दिवस के मद्देनजर अधिक चौकस रहने के लिए कहा गया है. शायद यही वजह है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने देश भर को इसके खतरे से आगाह किया है, खासकर ‘लोन वुल्फ अटैक’ से. इस बार गणतंत्र दिवस परेड में फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद मुख्य अतिथि होंगे. 
 
सूत्रों ने कहा, “किसी भी तरह के आतंकवादी हमले को रोकने के लिए 26 जनवरी को सेना के अलावा अर्धसैनिक बलों को भी तैनात किया जाएगा.” गणतंत्र दिवस की परेड में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और देश के शीर्ष नेता उपस्थित रहेंगे. 
 
सूत्रों ने कहा, “सुरक्षा सबसे बड़ी चिंता है और पिछले साल की तरह ही इस बार भी सारी सुरक्षा प्रणाली को काम पर लगा दिया जाएगा. पिछले साल की परेड में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा मुख्य अतिथि थे.”