नई दिल्ली. आम आदमी पार्टी की विधायक प्रमिला टोकस के पति धीरज टोकस को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उनके खिलाफ आरके पुरम थाने में सरकारी कर्मचारी पर हमला करना और एससी-एसटी एक्ट के तहत दो मामला दर्ज थे.  
 
पहली एफआईआर
15 दिसंबर को सीपीडब्ल्यूडी के एई जयराम ने आरके पुरम थाने में एफआईआर दर्ज कराई और शिकायत में लिखा कि आरके पुरम में झुग्गियां हटाने का काम शांतिपूर्वक चल रहा था,  तभी प्रमिला टोकस और उनके पति कार्यकर्ताओ के साथ वहां आ गए और काम को रुकवा दिया और भीड़ को भड़काने लगे जबकि उन्हें बताया गया था कि ये अलाधिकृत है, उनके कार्यकर्ताओं ने मुझे घेर लिया और महिलाओं को मुझे मारने का आदेश दिया. कार्यकर्ताओं ने सरकारी काम में बाधा डाली और मेरे साथ मारपीट की. 
 
दूसरी एफआईआर
इसके अलावा 18 दिसंबर को गीता नाम की महिला ने आरके पुरम थाने में एक एफआईआर दर्ज कराई है, जिसमें महिला ने आरोप लगाया है कि मैं 15 दिसंबर को अपने देवर के घर थी, तभी आप विधायिका प्रमिला टोकस अपने कुछ आदमियों के साथ जबरन मेरे घर में आईं. एक शख्स घर की वीडियो बनाने लगा और विधायिका का पति धीरज टोकस मुझसे गलत भाषा में बोलने लगा. विधायिका का पति मेरे देवर बलदेव को गाली देने लगा और जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल बार बार करता रहा और मेरे देवर को किसी महिला के केस में फंसाने के लिए कहने लगा. 
 
पुलिस ने बताया कि हमे शिकायत मिलने के बाद दक्षिण दिल्ली के आरके पुरम थाने में भारतीय दड संहिता की धाराओं 186, 332,  353 में मामला दर्ज कर लिया था.