नई दिल्ली. पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली ग्लोबल एनजीओ ग्रीनपीस ने दिल्ली में प्रदूषण के लेवल को बताने के लिए रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली की हवा में कैंसर का खतरा भारी मात्रा में मौजूद है.
 
रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में पीएम 2.5 कणों में धातु जैसे निकेल, आर्सेनिक, कैडमियम मौजूद हैं जो कि स्वास्थय के लिए बेहद खतरनाक है.
 
जांच के लिए स्कूलों में लगाए मॉनिटर
 
गुरुवार को ग्रीनपीस द्वारा जारी रिपोर्ट में दिल्ली स्कूलों को शामिल किया गया है. अक्टूबर-नंवबर 2015 के दौरान इन स्कूलों की क्लासरुम में मॉनिटर लगाए गए जिसमें 24 घंटे वायु गुणवत्ता की निगरानी करके पीएम 2.5 के नमूनों को इकठ्ठा किया गया. जिससे इन खतरनाक धातुओं के बारे में पता चल पाया.
 

ग्रीनपीस इंडिया के कैंपेनर सुनील दहिया कहते हैं, “रिपोर्ट में आए तथ्य से पता चलता है कि स्कूली बच्चे उन खतरनाक धातुओं की चपेट में है, जिसकी वजह से बच्चों में कैंसर और उनके विकसित होने की समस्या का खतरा उत्पन्न होता है.
 
तत्काल योजना की जरुरत
 
हालात को देखते हुए दिल्ली में स्कूली बच्चों को वायु प्रदुषण की ज़द में आने से बचाने के लिये तत्काल योजना बनाने की जरुरत है. इसमें अधिक वायु प्रदुषण वाले दिन स्कूलों को बंद करने से लेकर बच्चों के बाहरी गतिविधियों को रोकने जैसे उपाय अपनाये जा सकते हैं.
 
ग्रीनपीस ने ट्वीट कर अपनी रिपोर्ट का साझा किया है जिसमें प्रदूषण के आकंड़ों को दिखाया गया है.