नई दिल्ली. पठानकोट हमले के बाद अपने विरोधाभासी बयानों की वजह से संदेह के घेरे में आए पंजाब पुलिस के एसपी सलविंदर सिंह से एनआईए की पूछताछ जारी है और अब तक की पूछताछ का नतीजा ये निकला है कि सीमा पार से भारत में ड्रग्स स्मगलिंग करने वाले गिरोह से संबंध को लेकर सलविंदर पर शक और गहरा गया है.
 
एनआईए अब सलविंदर सिंह के 3 मोबाइल फोन पर इस्तेमाल हुए 4 मोबाइल नंबर के पिछले 2 साल के कॉल रिकॉर्ड खंगाले जाएंगे. कोशिश ये पता करने की होगी कि क्या सलविंदर का पंजाब के ड्रग्स स्मगलरों से संबंध हैं या फिर वो किन-किन और किस-किस तरह के लोगों के संपर्क में रहते थे. विदेश से आए और विदेश में किए गए कॉल पर खास नज़र होगी.
 
सलविंदर सिंह का फॉर्म हाउस कनेक्शन
 
एनआईए पहले दिन से सलविंदर सिंह के एक फॉर्म हाउस जाने की जांच कर रही थी. सलविंदर ने एनआईए से पहले झूठ बोला था कि वो फॉर्म हाउस पर गए ही नहीं थे. जब एनआईए की टीम सीन रीक्रिएट करने ले गई तो वो पकड़े गए.
 
पंजाब में तूर, छापे, लहसेन और भरियाल ऐसे चार इलाके हैं जहां सीमा पार से ड्रग्स की तस्करी होती है. एनआईए को जांच में पता चला है कि सलविंदर सिंह इन इलाकों में से कुछ जगहों पर भी गए थे. सलविंदर का पंजाब की सत्तारूढ़ पार्टी के एक नेता से संबंध भी जांच के दायरे में आया है. जब सलविंदर सिंह का जालंधर से ट्रांसफर हो गया था तो इस नेता ने डीजीपी को ट्रांसफर रोकने के लिए फोन भी किया था.
 
कुक के साथ-साथ मजार का केयरटेकर भी दिल्ली बुलाया गया
 
सलविंदर सिंह के बाद अब एनआईए उनके कुक मदन गोपाल और मजार के केयरटेकर सोमराज को भी पूछताछ के लिए दिल्ली बुला रही है. सोमराज उस मजार का केयरटेकर है जिस मजार पर मत्था टेकने सलविंदर गए थे जब उन्हें पठानकोट एयरबेस पर हमला करने वाले आतंकियों ने अगवा कर लिया था. सूत्रों के मुताबिक सलविंदर, मदन और सोमराज को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ हो सकती है.
 
एनआईए की सलविंदर सिंह को लेकर चल रही सारी जांच का फोकस इस बात का पता लगाने की है कि क्या सलविंदर का ड्रग्स स्मगलरों से कनेक्शन है और क्या इस कनेक्शन में आतंकवादियों का कनेक्शन भी मिक्स हो गया. पूछताछ में सलविंदर जो समय बता रहे हैं, जो लोकेशन बता रहे हैं, जिस तरह के मूवमेंट बता रहे हैं, वो असल में मेल नहीं खा रहे.