जम्मू. जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू हो गया. मुख्यमंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद के निधन के बाद राज्य में सरकार नहीं रह गई है. केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने दिल्ली में बताया, ”जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लागू कर दिया गया है. जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल एनएन वोहरा की सिफारिश के आधार पर राज्य में राज्यपाल शासन लागू करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय की अनुशंसा को राष्ट्रपति ने मंजूरी दे दी है.”
 
महबूबा की पार्टी पीडीपी ने राज्यपाल को पहले ही सूचित कर दिया है कि पीडीपी विधायक दल के 28 विधायकों ने मुख्यमंत्री पद के लिए उनका समर्थन किया है. महबूबा मुफ्ती का राज्य में पीडीपी-बीजेपी गठबंधन सरकार की मुख्यमंत्री बनना तय है, लेकिन उन्होंने चार दिन की मातम अवधि समाप्त होने से पहले शपथ ग्रहण करने से इंकार कर दिया है. 
 
सईद का गुरुवार को नई दिल्ली के एम्स में निधन हो गया था.
 
पीडीपी की गठबंधन सहयोगी बीजेपी ने भी संकेत दिए हैं कि रविवार को चार दिनों के शोक की अवधि समाप्त होने के बाद वह नई सरकार के गठन पर फैसला करेगी. 
 
इस बीच, पीडीपी और बीजेपी ने इन अटकलों को खारिज कर दिया कि नई सरकार के गठन के मुद्दे पर दोनों पार्टियों के बीच कोई मतभेद हैं या दोनों में से कोई नई शर्तें रख रहा है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतपाल शर्मा ने बताया, ”निश्चित तौर पर हमारी तरफ से कोई शर्त नहीं है और सरकार गठन को लेकर हमारे नेताओं की कोई मुलाकात नहीं हुई है. हम मुफ्ती साहब के शोकाकुल परिवार के शोक मनाने के अधिकार का सम्मान करते हैं.”