शिमला. डीडीसीए में भ्रष्टाचार को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली को निशाना बनाने वाले निलंबित बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद को पार्टी अनुशासन समिति ने ‘लक्ष्मण रेखा’ लांघने का दोषी मानते हुए सख्त कार्रवाई की सिफारिश पार्टी नेतृत्व से की है. 
 
पार्टी की अनुशासन समिति के अध्यक्ष गणेशी लाल ने शिमला में पत्रकारों से कहा, “हमने पार्टी नेतृत्व को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है और ये लिखा है कि कीर्ति आजाद ने लक्ष्मण रेखा लांघी है. इस पर क्या कार्रवाई होगी ये पार्टी संसदीय बोर्ड तय करेगा.” उन्होंने कहा कि अगर कीर्ति आजाद पार्टी या नेताओं के खिलाफ बोलना चाहते हैं तो पार्टी छोड़कर जो मन में आए, बोलते रहें.
 
लाल ने कहा कि अनुशासन समिति ने पाया है कि कीर्ति आजाद ने अनुशासनहीनता की है और उनके काम व बयान ने पार्टी को असहज स्थिति में डाला. उन्होंने कहा कि विरोधी हमारी आलोचना करते हैं तो ये सामान्य राजनीतिक बात है लेकिन खुद को पार्टी का समर्पित सिपाही बताने वाले किसी नेता को खुले तौर पर पार्टी या उसके नेता की आलोचना करने का लाइसेंस नहीं दिया जा सकता.