गुरदासपुर. पठानकोट एयर फोर्स बेस पर हमले से ठीक पहले अगवा किए गए गुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह से उनके ड्राइवर से पिछली रात कई घंटों तक NIA ने पूछताछ की है. जानकारी के मुताबिक आज NIA दोनों को घटनास्थल ले जाएगी जहां उनसे अगवा होने के घटनाक्रम के संबंध में जानकारी लेगी. 
 
आपको बता दें कि एसपी सलविंदर सिंह ने कल बताया था कि वह 31 दिसंबर की रात को ख्‍वाजा की दरगाह पर गए थे. यहां से लौटते हुए उन्हें रात के 12 बजे गए. उन्होंने बताया कि उन्‍हें तारागढ़ होते हुए गुरदासपुर आना था. इसी दौरान सेना की वर्दी पहने चार-पांच आतंकियों ने उन्‍हें रोक लिया था और उनको अगवा कर लिया.
 
सलविंदर का दावा गलत ?
उल्लेखनीय है कि पंजाब पुलिस के महानिदेशक सुरेश अरोड़ा ने गुरदासपुर के अगवा एसपी सलविंदर के उस दावे को खारिज किया है जिसमें उन्होंने समय रहते ही सारी जानकारी देने का दावा किया है. एसपी सलविंदर ने दावा किया है कि अगर अधिकारियों ने उनकी दी गयी सूचना पर कार्रवाई की होती तो पठानकोट आतंकी हमले को रोका जा सकता था. 
 
गौरतलब है कि सबसे पहले आतंकियों ने सलविंदर सिंह को ही उनकी गाड़ी के साथ अगवा किया था. पठानकोट एयर फोर्स बेस पर हमले से ठीक पहले अगवा किए गए गुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह, उनकी कार ड्राइव कर रहे राजेंद्र वर्मा और कुक मदन गोपाल ने मीडिया के समक्ष जो बातें रखी वह सचमुच चौकाने वाला है. साथ ही यह बात भी असमंजस में डालने वाली है कि पुलिस को एक दिन पहले ही बेस पर होने वाले हमले की साजिश के बारे में आगाह कर दिया गया था लेकिन हमला रुक न सका.
 
NIA ने दर्ज किए हैं 3 मामले
NIA ने पंजाब के पठानकोट में वायुसेना स्टेशन पर हुए आतंकवादी हमले के पीछे की पूरी साजिश की जांच के लिए तीन मामले दर्ज किए और समझा जाता है कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले को अंजाम दिया है. ये मामले शुरू में पठानकोट में स्थानीय पुलिस द्वारा दर्ज किए गये थे और बाद में उन्हें राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआइए को सौंप दिया गया.