नई दिल्ली. दिल्ली में ऑड-ईवन फॉर्मूला पर अमल के दौरान स्कूलों में छुट्टी देकर स्कूल बसों को सड़क पर उतारने की अरविंद केजरीवाल सरकार की कोशिश फेल हो गई.
 
दिल्ली सरकार की अपील पर 408 स्कूलों के 1799 बसों ने इस स्कीम के तहत सामान्य मुसाफिरों को ढोने का रजिस्ट्रेशन कराया था. लेकिन 125 स्‍कूलों की 366 बसों ने ही स्कीम के लिए रिपोर्ट किया. 283 स्‍कूलों की 1433 बसों ने ऑड-ईवन के दौरान रिपोर्ट ही नही किया.
 
स्कीम में रिपोर्ट नहीं करने वाले स्कूलों की लिस्ट
जिन स्कूलों की बसों ने स्कीम के तहत वैकल्पिक इंतजाम के लिए रिपोर्ट नहीं किया उनमें अर्वाचीन स्‍कूल (दिलशाद गार्डेन), फ्लोराडेल (दिलशाद गार्डेन ), के.आर. मार्डनवेल स्‍कूल (पीरागढ़ी), सेंट एंड्रयूज स्‍काट (पड़पड़गंज), क्‍वीन  मैरी स्‍कूल (मयूर विहार), हिलउड एकाडमी (प्रीत विहार), चिन्‍मया स्‍कूल (वसंत विहार), वेंकेटेश्‍वर स्‍कूल (रोहिणी), लवकुश पब्लिक स्‍कूल (बवाना), सृजन पब्लिक स्‍कूल (मॉडल टाउन), प्रिंस पब्लिक स्‍कूल (रोहिणी), मार्डन कान्‍वेट सीनियर स्‍कूल (हरि नगर), रिचर्ड ग्‍लोबल स्‍कूल (द्वारका), डीएवी (वसंत कुंज), दीप पब्लिक स्‍कूल (वसंत कुंज), एमिटी इंटरनेशनल (साकेत), कालका पब्लिक स्‍कूल (अलकनंदा), ग्रीनफील्‍ड स्‍कूल (सफदरजंग इन्‍क्‍लेव), एमिटी स्‍कूल (पुष्‍प विहार) और सेंट थामस (मंदिर मार्ग) शामिल हैं.