जयपुर. राजस्थान में एक सीनियर आईएएस ऑफिसर उमराव सालोदिया ने हिंदू धर्म में भेदभाव की घटना से तंग आकर इस्लाम कबूल लिया है. इस ऑफिसर ने अपना नाम बदलकर उमराव खान रख लिया है. 1978 बैच के आईएएस उमराव जयपुर के रहने वाले हैं और इस समय राजस्थान रोडवेज के चेयरमैन हैं. 
 
क्यों बदला धर्म ?
उमराव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा है कि मेरे साथ हिंदू धर्म में भेदभाव हुआ है. दलित होने की वजह से मेरा प्रोमोशन रोका गया और मुझे चीफ सेक्रेटरी नहीं बनाया गया. दलित होने के कारण मुझ पर कई अत्याचार हुए हैं जबकि मुस्लिम धर्म में ऐसा नहीं होता. 
 
उन्होंने एक चिठ्ठी भी लिखी है जिसमें कहा कि भारत के संविधान में आर्टिकल 25 (1) में नागरिकों को अपनी मर्जी से धर्म बदलने की आजादी है इसलिए मैं उसके मुताबिक 31 दिसंबर, 2015 को हिंदू छोड़कर मुस्लिम बन रहा हूं.
 
सरकार ने कहा, यह तरीका गलत है
 
उमराव के मजहब बदलने पर राजस्थान के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया का कहना है कि यह तरीका गलत है. हां धर्म बदलने की पूरी आजादी है लेकिन उनके जैसे पढ़े-लिखे व्यक्ति को ऐसा करना शोभा नहीं देता.