नोएडा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरूवार को नोएडा के सेक्टर-62 में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे शिलान्यास करने पहुंचेंगे. इस परियोजना का उद्देश्य राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैफिक सिस्टम को आसान बनाना है लेकिन इस कार्यक्रम में यूपी के सीएम अखिलेश यादव शामिल नहीं होंगे. यह एक्‍सप्रेस वे एनएच-24 को ही चौड़ा करके बनाया जाएगा, जो देश का सबसे अधिक जाम नेशनल हाइवे माना जाता है. 
 
‘ट्रैफिक की समस्या होगी दूर’
सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, हम दिल्ली में ट्रैफिक की समस्या को दूर करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और कुछ कदम उठा रहे हैं. दिल्ली में भीड़-भाड़ कम करने के लिए एक और महत्वपूर्ण परियोजना दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे होगी. इसके लिए प्रधानमंत्री आज आधारशिला रखेंगे. 
 
‘मेरठ आना-जाना होगा आसान’
गडकरी ने कहा कि फिलहाल दिल्ली और मेरठ के बीच एक मात्र रास्ता एनएच 58 है और इस राजमार्ग पर कई जगह ट्रैफिक जाम की समस्या होती है. इससे दिल्ली और मेरठ के बीच यात्रा करने वाले लोगों को असुविधा होती है. इससे उनकी काफी समस्या हल होगी.
 
ऐसे बनेगा एक्‍सप्रेस वे 
लगभग 87 किलोमीटर लंबे इस प्रोजेक्‍ट ( 9 किलोमीटर के अतिरिक्‍त) के तहत 6 लेन वाला एक्‍सप्रेस वे और 4-4 लेन का हाइवे, सर्विस रोड, साइकिल ट्रेक, फ्लाइओवर, छोटे बड़े पुल, रेलवे ओवर ब्रिज, अंडर पास, पैदल चलने वालों के लिए सबवे बनाए जाने हैं.