चेन्नई. तमिलनाडु के एक मुस्लिम संगठन ने योग गुरू बाबा रामदेव के उन पतंजलि प्रोडक्ट्स के खिलाफ फतवा जारी किया है, जो गोमूत्र से बनते हैं. संगठन का कहना है कि उनका प्रयोग इस्लाम में हराम माना जाता है. टीएनटीजे (तमिलनाडु तौहीद जमात) ने कहा है कि पतंजलि की दवाओं खाने-पीने और कॉस्मेटिक्स सामान में गाय के मूत्र का इस्तेमाल किया जाता है.
 
टीएनटीजे ने एक रिलीज जारी कर कहा कि मुस्लिमों की मान्यता के मुताबिक गाय का मूत्र हराम है और इसका प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए. इसलिए टीएनटीजे ने फतवा जारी करता है कि पतंजलि के उत्पाद हराम हैं. फतवा यह सुनिश्चित करने के लिए जारी हो रहा है कि मुस्लिम इस तरह के उत्पाद का प्रयोग न करें.
 
बता दें कि पतंजलि आयुर्वेद साबुन, शैम्पू, पेस्ट, मंजन, स्किन क्रीम, बिस्किट, घी, जूस, शहद, आटा, कुकिंग ऑयल, मसाला, शुगर, आटा नूडल्स जैसे 350 प्रोडक्ट बनाता है. इस फतवे को लेकर अभी तक पतंजलि की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है.