मॉस्को. अपने दो दिवसीय दौरे के लिए रूस पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन की सीईओ मीट में बैठक के बाद भारत-रुस के बीच 16 अहम समझौते है. इनमें भारत और रूस के बीच रेलवे के क्षेत्र में भी समझौता हुआ है.
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक राष्ट्रपति पुतिन ने भारत का कई मामलों के साथ ही सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की स्थाई सदस्यता का भी समर्थन किया है.
 
भारत और रुस सीईओ फोरम स्थापित करने पर एकमत हुए है. इस फोरम की साल में दो मीटिंग होंगी, एक भारत में और एक रूस में. सीईओ मीट के दौरान पीएम मोदी ने कहा, “रूस और भारत के संबंध मजबूत हों, ऐसी हमारी इच्छा है. हम भारत को एक ग्लोबल मैन्युफैक्चरिंग हब बनाना चाहते हैं. यह अच्छी बात है कि हमारे व्यावसायिक संबंध मजबूत हुए हैं, रूस और भारत की कई कंपनियां साथ में काम कर रहीं हैं. रूस के पास हमारे मेक इन इंडिया अभियान का हिस्सा बनने के लिए पर्याप्त संभावनाएं हैं.”
 
भारत और रूस के बीच हुए समझौतों को लेकर विदेश सचिव विकास स्वरुप ने ट्वीट कर बताया कि ‘मेक इन इंडिया’ के तहत रुस ने Kamov 226 हेलीकॉप्टर निर्माण को लेकर हस्ताक्षर किया है.