नई दिल्ली. दिल्ली के डीडीसीए घोटाले में वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ आवाज उठाने वाले बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद ने पार्टी से सस्पैंड किए जाने के बाद पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा है कि मेरी ग़लती क्या है? क्या भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलना गलत है ?

कीर्ति आजाद ने कहा कि उनकी लड़ाई पार्टी से बाहर की है और वो हमेशा भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते हैं. उन्होंने कहा कि मैं जानना चाहता हूं कि क्या मुझे डीडीसीए के भ्रष्टाचार उठाने पर सस्पेंड किया गया है ?

उन्होंने कहा कि अध्यक्ष जी मुझे बताएं, मेरी ग़लती क्या है. मैंने पार्टी के बारे में कुछ नहीं बोला है. ये मामला डीडीसीए का है. इससे बीजेपी का क्या लेना-देना है. इस मामले में मोदी जी और मार्गदर्शक मंडल को भी हस्तक्षेप करना चाहिए.

पार्टी को घेरते हुए कीर्ति आजाद ने आगे पूछा कि क्या डीडीसीए का मुद्दा भी पार्टी का मुद्दा है? तब तो बीसीसीआई भी पार्टी का ही मामला है.

कीर्ति आजाद ने कहा कि पार्टी ने जो नोटिस दिया है उसके जवाब के ड्राफ्ट बनाने में उनकी मदद बीजेपी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी करेंगे और मैं शाम तक पार्टी को जवाब भेज दूंगा.