अमेठी. दो दिन के दौरे पर अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को सम्राट साइकिल की जमीन वापस मांग रहे किसानों के तीखे विरोध-प्रदर्शन का सामना करना पड़ रहा है. ये जमीन राजीव गांधी ट्रस्ट ने नीलामी में खरीदी थी जिस नीलामी को कोर्ट ने खारिज कर दिया है.
 
अमेठी के मुसाफिरखाना में राहुल गांधी के कार्यक्रम स्थल के बाहर प्रदर्शन कर रहे किसानों की मांग है कि जिस सम्राट साइकिल की जमीन राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट को दी गई है, उस पर या तो कारखाना लगाकर किसानों को नौकरी दी जाए या उन्हें जमीन वापस कर दी जाए ताकि वो खेती कर सकें.
 
इसी साल जून में अमेठी की एक अदालत ने सम्राट साइकिल द्वारा राजीव गांधी ट्रस्ट को नीलामी में बेची गई 65 एकड़ जमीन को अवैध बिक्री बताते हुए ये जमीन उत्तर प्रदेश राज्य ओद्योगिक विकास निगम को लौटाने का आदेश दिया था.
 
फैक्ट्री नहीं खुली और ज़मीन नीलामी में ट्रस्ट को बेच दी सम्राट साइकिल ने
 
सम्राट साइकिल ने ये जमीन 1983 में 90 साल के लीज पर साइकिल की फैक्ट्री लगाने के लिए दी गई थी लेकिन कंपनी फैक्ट्री नहीं खोल सकी और बंद भी हो गई. कर्ज में डूबी कंपनी ने इस जमीन को नीलामी में बेचकर पैसे निकाले ताकि वो कर्ज चुका सके. नीलामी में इस जमीन को राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट ने खरीदा था.
 
इस ज़मीन को लेकर राहुल से अमेठी का लोकसभा चुनाव हारीं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने गांधी परिवार पर तीखे हमले बोले थे और कहा था कि इन लोगों ने किसानों की ज़मीन हड़प ली है.
 
इस बीच राहुल ने यहां नए ग्राम प्रधानों से मुलाकात की. उन्होंने फुर्सतगंज में एक कार्यक्रम में कहा कि हम नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ पूरे हिंदुस्तान में लड़ रहे हैं. राहुल दो दिन के अमेठी दौरे पर पहुंचे हैं.