नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को डीडीसीए घोटाले में केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली का बचाव किया है. मोदी ने संसदीय दल की बैठक में कहा कि डीडीसीए मामले में जेटली ठीक उसी तरह बेदाग निकलेंगे, जैसे हवाला केस में लालकृष्ण आडवाणी निखरकर बाहर आए थे. वित्त मंत्री जेटली पर लगे सभी आरोप निराधार साबित होंगे. 
 
संसदीय मामलों के मंत्री ने बताया कि मोदी ने बीजेपी की संसदीय दल की बैठक में कहा, “अरुण जेटली पर लगे सभी आरोप निराधार साबित होंगे. वह ठीक उसी तरह तमाम आरोपों से बरी हो जाएंगे, जिस तरह वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी बरी हुए थे. कांग्रेस मनगढ़ंत आरोपों के आधार पर बीजेपी की छवि खराब करने का प्रयास कर रही है.”
 
मोदी ने कहा, “कांग्रेस ने सुषमा जी (सुषमा स्वराज), वसुंधरा जी (वसुंधरा राजे) और शिवराज जी (शिवराज सिंह चौहान) के साथ भी ऐसा ही किया था. वह सिर्फ बीजेपी सरकार को बदनाम करना चाहती है.” 
 
कीर्ति आजाद ने बैठक में नहीं लिया हिस्सा
जेटली पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद ने संसदीय दल की बैठक में हिस्सा नहीं लिया. आजाद ने कहा कि वह व्यस्तता के कारण बैठक में हिस्सा नहीं ले सके. वह इस बैठक का बहिष्कार नहीं कर रहे हैं. 
 
क्या हुआ था आडवाणी के साथ
पी वी नरसिंह राव के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के दौरान आडवाणी एवं अन्य नेताओं के मामले में सीबीआई जांच हुई थी. आडवाणी ने हवाला का आरोप लगाए जाने पर 1996 में लोकसभा से इस्तीफा दे दिया था. यह मामला हालांकि बाद में सबूतों की कमी के चलते ठहर नहीं पाया था.
 
जेटली ने आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस द्वारा अपने 13 साल के कार्यकाल के दौरान कथित भ्रष्टाचार के सम्बंध में लगाए गए तमाम आरोपों का खंडन किया है, और आप के पांच नेताओं के खिलाफ मानहानी का मुकदमा भी दर्ज किया है.