नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप के नाबालिग दोषी को रिहा कर दिया गया है. सूत्रों के अनुसार रिहाई के बाद उसे दिल्ली में ही एक एनजीओ के संरक्षण में रखा जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार रात नाबालिग की रिहाई पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था. सोमवार को इस मामले कि फिर सुनवाई होनी है.  
 
रिहाई के विरोध में निर्भया के माता-पिता दिल्ली में इंडिया गेट के पास प्रदर्शन कर रहे हैं. पुलिस ने बाद में उन्हें वहां से हटा दिया. पुलिस कुछ लोगों को डीटीसी बसों में भरकर ले गई. इंडिया गेट के आसपास धारा 144 लगा दी गई है. इसके बाद भी लोग रिहाई के विरोध में डटे हुए हैं.
 
दिल्ली महिला आयोग ने रविवार को जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड से अनुरोध किया कि निर्भया गैंगरेप मामले के दोषी किशोर को रिहा नहीं किया जाए. डीसीडब्ल्यू की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने दोषी किशोर की रिहाई के खिलाफ शनिवार को सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) दायर की थी. सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर सोमवार को सुनवाई करने का निश्चय किया है. 
 
मालीवाल ने जुवेनाइल बोर्ड को लिखा है, “दिल्ली महिला आयोग ने कल (शनिवार) रात माननीय सुप्रीम कोर्ट में एक विशेष अनुमति याचिका दायर की है, जिसमें निर्भया सामूहिक दुष्कर्म मामले में दोषी किशोर की रिहाई को चुनौती दी गई है. सुप्रीम कोर्ट मामले की सुनवाई सोमवार को करेगा.” दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कहा था कि दोषी किशोर को सुधार गृह में अब अधिक समय तक रखा नहीं जा सकता है.