नई दिल्ली. दिल्ली गैंगरेप की पीड़िता निर्भया की मां ने दिल्ली महिला आयोग पर अपनी नाराज़गी जताते हुए सवाल किया है कि वो सुबह ही सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं गए. उन्होंने महिला आयोग के इस कदम को महज एक दिखावा बताया है.

निर्भया की मां ने कहा कि मैं केवल न्याय चाहती हूं, मैं उस आरोपी की रिहाई पर रोक चाहती हूं, मुझे और कुछ नहीं चाहिए. उन्होंने कहा कि जब वह छूट ही जाएगा तो सुनवाई का क्या मतलब होगा ? यह मेरी समझ से परे है.

उन्होंने कहा कि दिल्ली महिला आयोग ने रात में कोशिश की, यदि वे दिन में कोशिश करते तो हो सकता है कि नाबालिग की रिहाई रुक सकती थी.

स्वाति ने दी सफाई

वहीं इस मामले पर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल का कहना है कि हमने कल पूरे दिन तमाम लोगों से मुलाकात की थी, लेकिन कोई समाधान नहीं निकला. इसलिए हमने रात में सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किया था. हम चाहते हैं कि निर्भया को न्याय मिले.

कल होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

बता दें कि निर्भया कांड में दोषी नाबालिग़ की रिहाई के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई होगी. ये याचिका दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कल देर रात दाखिल की थी.

16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में हुए नृशंस गैंगरेप के इस नाबालिग दोषी को मिली तीन साल की सजा पूरी हो गई है और उसे आज शाम 5 बजे रिहा किया जाना है.