नई दिल्ली. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान से लौटी मूक बधिर युवती गीता के परिवार वालों की खोज करने की अपील की है.

सुषमा स्वराज ने गीता के पहचान चिह्नों का जिक्र करते हुए ट्वीट किया है कि कृपया गीता के घरवालों का पता लगाने में मदद करें.  सुषमा ने लोगों से इसके जवाब में री-ट्वीट करने की अपील भी की है.

सुषमा ने उस जगह का जिक्र भी किया जहां रहते हुए गीता करीब एक दशक से भी अधिक समय पहले भूलवश सीमा पार कर पाकिस्तान पहुंच गई थी. साथ ही उन्होंने यह बताने के लिए गीता की एक तस्वीर भी जारी की है कि वह दस साल पहले कैसी दिखती रही होगी.

सुषमा ने ट्वीट किया है कि गीता के पहचान चिह्न हैं उनकी बायीं आंख और भौंह के उपर दो तिल हैं. उसकी बायीं एड़ी पर चोट के दो निशान भी हैं.

उन्होंने ट्वीट में कहा है, ‘जिस गली में उसका मकान है उसके आखिर में एक अस्पताल है. धान और गन्ने के खेत भी हैं. एक ओर रेल पटरी और दुर्गा मंदिर है. पास में नदी की एक पतली धारा बह रही है जहां लोग मछलियां पकड़ते थे. जैसा कि उसने बताया, उससे लगता है कि वह बिहार या झारखंड की है.

फिलहाल पाकिस्तान से लौटने के बाद गीता लगभग 50 दिन से इंदौर में एक गैर सरकारी संगठन के साथ रह रही है.