नई दिल्ली. स्पेशल सेल ने खुलासा किया है कि आतंकी संगठन अल कायदा नए साल के मौके पर दिल्ली में कई जगह बम ब्लास्ट करने की योजना बना रहा था. सूत्रों के मुताबिक अल कायदा की फंडिग में आई कमी के चलते ख़बरों में फिर से आने के लिए आतंकी संगठन ने यह योजना बनाई थी.
 
पुलिस की गिरफ्त में आए अल कायदा की भारतीय यूनिट के चीफ ने खुलासा किया कि आंतकी संगठनों को फंड देने वाली एजेंसियों ने एक्टिव न होने के चलते अल कायदा को फंड देना बंद कर दिया है. अल कायदा भारत की राजधानी में धमाके करके खुद को एक बार फिर बड़ा खिलाड़ी साबित करने की फ़िराक में था.
 
सूत्रों के मुताबिक आतंकी संगठन ISIS की आक्रामक गतिविधियों के चलते भी अल कायदा को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. इसी नुकसान की भरपाई के लिए AQIS यानी अल कायदा की भारतीय ब्रांच के लोग जल्द ही भारत में धमाके अंजाम देना चाह रहे थे. 
 
स्पेशल सेल सूत्रो की माने तो ये नए साल और 26 जनवरी के आसपास दिल्ली समेत कुछ और शहरो में आतंकी वारदातें प्लान कर रहे थे लेकिन उससे पहले ही ये पुलिस की गिरफ्त में आ गए.
 
फिलहाल गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी आसिफ, अब्दुल रहमान और जफर मसूद से पूछताछ कर इनके और मेम्बर्स की तलाश की जा रही है क्योंकि पिछले साल राजस्थान मॉडयूल के गिरफ्तार आतंकियों से जो वीडियो मिले थे उससे साफ़ था कि कई भारतीय लोग अल कायदा के भारत ब्रांच में भर्ती होने के लिए ट्रेनिंग ले रहे है.
 
भारत में इनके एक ठिकाना के तौर पर यूपी का संभल जिला सामने आया है जहां के मोहल्ला दीपासराय में पनाह लेकर ये लोग भर्ती का काम करते थे और फिर युवाओं को हथियार की ट्रेनिंग के लिए पाकिस्तान, तेहरान समेत दूसरी जगह भेजा करते थे.