नई दिल्ली. ‘आप’ और कांग्रेस ने केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली से इस्तीफा की मांग की है. आप ने कहा कि सीबीआई ने दिल्ली क्रिकेट बोर्ड की जांच को भटकाने के लिए दिल्ली सचिवालय में छापा मारा. जेटली बोर्ड के अध्यक्ष रह चुके हैं. वहीं कांग्रेस ने कहा है कि जब तक डीडीसीए मामले की जांच पूरी न हो जाए  जेटली को मंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.
 
”आप’ का आरोप’
आप नेता संजय सिंह ने कहा कि जब तक जेटली मंत्रिमंडल में रहेंगे, तब तक डीडीसीए पर लगे भष्ट्राचार के आरोपों की जांच नहीं हो सकती. जेटली डीडीसीए के पूर्व अध्यक्ष हैं, जो राजधानी में क्रिकेट से जुड़े मामलों की देखरेख करती है. पूर्व क्रिकेटरों ने क्रिकेट संघ के अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं, जिनमें जेटली भी शामिल हैं. संजय ने कहा, “उन्हें मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे देना चाहिए.”
 
‘कांग्रेस का आरोप’
कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने कहा कि जेटली की अध्यक्षता में डीडीसीए में ‘बड़े पैमाने पर वित्तीय अनियमितताएं’ हुई हैं. माकन ने कहा, “कांग्रेस डीडीसीए के अध्यक्ष के तौर पर जेटली के कार्यकाल की और डीडीसीए में हुई वित्तीय गड़बड़ियों की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच करवाई जाए.” उन्होंने कहा कि ‘जेटली के मंत्री पद पर रहते हुए निष्पक्ष जांच की कोई उम्मीद नहीं है’ और जांच के पूरा होने तक जेटली के इस्तीफे की मांग भी की.
 
माकन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के उस बयान की भी आलोचना की जिसमें केजरीवाल ने कहा था कि आप की सरकार ने डीडीसीए में हुई अनियमितताओं की जांच के लिए आयोग गठित करने का आदेश दिया था. माकन ने कहा कि दिल्ली में किसी तरह की जांच का आदेश देने का अधिकार उप-राज्यपाल के पास है.