नई दिल्ली. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार के खिलाफ दिल्ली सचिवालय में सीबीआई छापा को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने अभूतपूर्व और चौंकाऊ करार दिया है तो केजरीवाल ने अघोषित इमरजेंसी का आरोप लगाया है.
 
केजरीवाल ने दावा किया कि सीबीआई टीम ने राजेंद्र कुमार पर छापे की आड़ में उनकी फाइलें खंगाली हैं जबकि सीबीआई कह रही है कि छापे का केजरीवाल से कोई लेना-देना नहीं है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी कहा कि सीबीआई छापे का संबंध न तो केजरीवाल से है और न केजरीवाल के कार्यकाल से.
 
इस छापे की ख़बर मीडिया में आने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ट्वीट किया, “एक मुख्यमंत्री के दफ्तर को सील करना अभूतपूर्व है. मैं चकित हूं.” ममता बनर्जी के ट्वीट का जवाब देते हुए दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने ट्वीट किया, “ममता दी, ये अघोषित आपातकाल है.”
 
केजरीवाल ने ट्वीटर पर इस मसले पर दो पत्रकारों के ट्वीट को भी शेयर किया है जिससे ऐसा लगता है कि वो इन दोनों ट्वीट में जाहिर विचार से इत्तेफाक रखते हैं. इन दो में से एक ट्वीट में ये सवाल उठाया गया है कि शकूरबस्ती में झुग्गियां गिराने पर फंसी मोदी सरकार ने इस छापेमारी से लोगों का ध्यान उस मुद्दे से हटाने की कोशिश की है.
 
केजरीवाल ने एक और पत्रकार का ट्वीट अपने टाइमलाइन पर रीट्वीट किया है जिसमें कहा गया है कि एक प्राइवेट शिकायत पर सीबीआई इतनी हरकत में है, काश इतनी ही तत्परता से वो उन शिकायतों पर एक्शन लेती जिसमें शिकायत सरकार ने रखी है.