नई दिल्ली. पाकिस्तानी नाव को पोरबंदर में उड़ाने का दावा करने वाले कोस्टगार्ड डीआईजी बीके लोशाली को कोर्ट मार्शल की कार्रवाई के बाद सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने संसद में बयान दिया था कि बोट को खुद उस पर सवार लोगों ने घिरने के बाद उड़ा दिया था.
 
क्या कहा था लोशाली ने
16 फरवरी को सूरत में एक समारोह के दौरान लोशाली ने कहा था, “मुझे उम्मीद है कि आपको 31 दिसंबर की रात याद है. हमने पाकिस्तान की नौका उड़ा दी थी. मैं गांधीनगर में था और मैंने रात में कहा कि नौका उड़ा दो. हम उन्हें बिरयानी नहीं परोसना चाहते.” बाद में उन्होंने इस बयान से किनारा किया था.
 
कैसे हुआ था ब्लास्ट
रक्षा मंत्रालय के अनुसार संदिग्ध नौका को तटरक्षक दस्ते ने पोरबंदर तट से 365 किमी दूर अरब सागर में 31 दिसंबर की रात रोका था जिसके बाद बोट में विस्फोट हो गया और यह समुद्र में डूब गया. सरकार का बयान था कि बोट पर सवार लोगों ने तटरक्षकों से घिरने के बाद उसे खुद उड़ाया.