नई दिल्ली. अयोध्या में विवादित ढांचा गिराने की घटना को 23 साल पूरे हो गए है. इस मौके पर एक बार फिर राममंदिर को लेकर नेताओं के नए नए बयान सामने आ रहे हैं.

विश्व हिंदू परिषद की नेता साध्वी प्राची ने राम मंदिर विवाद पर बोलते हुए कहा है कि सूरज अपनी गरिमा छोड़ सकता है, चंद्रमा अपनी शीतलता का परित्याग कर सकता है और सागर अपनी सीमाओं का उल्लंघन कर सकता है, पर राम जन्मभूमि पर संसार की कोई ताकत नहीं कि वहां मंदिर बनने से कोई रोक सकेगा

साध्वी प्राची ने आगे बोलते हुए कहा कि ये मंदिर राम जन्मभूमि पर नहीं बनेगा तो क्या मक्का-मदीना में बनेगा. उधर यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने भी राम मंदिर पर बयान देकर सियासी माहौल और गरमा दिया है.

आजम खान ने अयोध्या में बाबरी मस्जिद बनाए जाने की वकालत की है. उन्होंने बीजेपी को नसीहत देते हुए कहा कि अगर बीजेपी सत्ता में बने रहना चाहती है तो उसे आरएसएस को बैन कर देना चाहिए.

उन्होंने कहा कि बीजेपी को उसी जगह पर बाबरी मस्जिद बनवाकर देश को संदेश देना चाहिए कि अब कोई धर्मस्थल को तोड़ा नहीं जाएगा. हम बीजेपी और आरएसएस को आश्वस्त कर देना चाहते हैं कि अगर उन्होंने उसी जगह पर बाबरी मस्जिद बनवाई तो देश के सारे मुसलमान उनकी सत्ता की वापसी के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.