नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर की 125वीं जयंती पर एक समारोह में बोलते हुए कहा है कि अंबेडकर को अब तक भी उचित सम्मान नहीं मिला है.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने आवास पर लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसे कुछ ही लोग हैं जो निधन के 60 साल बाद भी जन चेतना में अब भी जीवित हैं. उन्होंने कहा कि हम भारत के सामने फिलहाल मौजूद मुद्दों के संदर्भ में जितना अंबेडकर के विचारों को याद करेंगे , हम ‘उनके दृष्टिकोण और समग्रता के उनके रूख का उतना ही अधिक सम्मान करेंगे.

पीएम मोदी ने आगे बोलते हुए कहा कि सामाजिक न्याय के प्रति उनके योगदान को पहचान मिली है लेकिन उनके आर्थिक विचारों तथा दृष्टिकोण को अब भी पूरी तरह से समझा नहीं गया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय’ के मंत्र को अहम बताते हुए कहा कि नई पीढ़ी को अंबेडकर के विचारों के बारे में जानकारी दी जानी चाहिए. मोदी ने कहा कि देश की एकता में अंबेडकर का महत्वपूर्ण योगदान रहा.

समारोह में जारी किए सिक्के

बाबासाहब भीमराव अंबेडकर के 125वीं जयंती पर आयोजित प्रोग्राम में 125 रूपये और 10 रूपये के मॉन्यूमेंट सिक्के जारी किए गए हैं. ये सिक्के ‘‘बाबासाहेब अंबेडकर के महापरिनिर्वाण दिवस’’ के रूप में मनाई जा रही उनकी पुण्यतिथि पर जारी किये गए हैं.